• How To Get In Your Best Shape Quick View
  • अविरल Quick View
    • अविरल Quick View
    • अविरल

    • 100.00
    • कविताओं का यह संग्रह जीवन के सभी रंगों का संगम माना जा सकता है। एक आम आदमी के जीवन के सभी अनुभव; भावात्मक जुड़ाव से लेकर मन को तोड़ देने वाली मुश्किलों तक, युवा सोच के जोश से लेकर वृद्ध संवेदनाओं तक, देश की बदलती राजनैतिक व्यवस्था से लेकर व्याकुल सामाजिक चेतना तक; इन काव्यधाराओं में सब समाहित हैं। विषय…
    • Add to cart
  • बाल कविताएँ Quick View
    • बाल कविताएँ Quick View
    • ,
    • बाल कविताएँ

    • 129.00
    • साहित्य चर्चा मैं अदारट साल उप्र से ही प्रार्म्म किया। मेरा मातृभाषा बांगला होते के कारण बांगला मैं ही लिखने लगे । छल्द हाएछे जे मन्‍्दर बोले मोर दादा नन्‍्दर यह पहला लिखी हूई | की ला कविता है। 1982 मैं करीब 60 कविताएँ एक गीत नाटय(ब्ची के साथ आनन्द करते थे) तथा एक टुसु संगीत (प्रकासित) तथा मन 1987…
    • Add to cart
  • मुन्तज़िर Quick View
    • मुन्तज़िर Quick View
    • मुन्तज़िर

    • 120.00
    • मुंतजिर अर्थात् प्रतीक्षित यूं तो हर कोई अपने जीवन में किसी ना किसी चीज के लिए मुन्तजिर होता है। चाहे वो कोई शख्स हो या फिर क्यूं ना किसी के प्यार का इंतज़ार हो। असल में किसी के लिए मुन्तजिर रहना वो एहसास है जो शब्दों में बयान नहीं हो सकता, इसी एहसास को यहां पर दिखाए जाने का प्रयास…
    • Add to cart
  • शब्दों की धार Quick View
    • शब्दों की धार Quick View
    • ,
    • शब्दों की धार

    • 139.00
    • शब्दों का जादू दुनिया में सबसे अधिक प्रभावशाली होता है। शब्द हताशा के भंवरजाल में फंसे मनुष्य को प्रेरणा की ऐसी खुराक दे सकते हैं कि वह विश्वविजेता बनकर पूरी दुनिया को फतह कर सकता है। शब्दों की ऐसी ही संजीवनी के द्वारा हमने भी समाज और देश में परिवर्तन की एक लहर लाने की चेष्टा की है। उम्मीद है…
    • Add to cart
  • सरगोशियाँ Quick View
    • सरगोशियाँ Quick View
    • सरगोशियाँ

    • 125.00
    • “ खामोशियाँ कुछ बातें बनाती रही । उन लफ्जों को जोड़कर पंक्तियों मे सँजोती रही बहने दे स्याही , की थोड़ी गुफ्तगू भी उनसे की कुछ सरगोशियाँ कोरे कागज़ों से करती रही ।” “ सरगोशियाँ कोरे कागज़ से “ यह काव्य संकलन में संकलित कविताएँ कोरे पन्नों से की थोड़ी गुफ़्तगू है । गुफ़्तगू , जिसमे मैंने अपने हर विचारों…
    • Add to cart